Wednesday, August 10, 2011

सिगरेट पीने वाली लडकी

सिगरेट पीने वाली लडकी....
यूँ तो थी
बडी ही खूबसूरत
अपने तीखे नैन-नक्श से
पर उसकी उद्विग्न सी भंगिमा...
मुझे अनायास ही
खींचती थी हर बार..
कि जैसे हर कश पर ले रही थी प्रतिशोध
किसी फ़रेब का
और आस-पास से गुजरते लोगों का
सतर्क अनदेखा करना...
बडा ही जालिम लगता था...
वह सिगरेट पीने वाली लडकी...
बहुत प्यार करती थी खुद से
सिर्फ़ यही बात समझाने के लिए....
मैं उसे हरसत भरी निगाहों से देखा करता था....
सिगरेट पीने वाली लडकी !!!

4 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

Rajesh Kumari said...

aapki kavita phli baar padh rahi hoon.charcha manch ke madhyam se aapke blog ka pata chala.aap bahut achcha likhte hain.kavita bahut achchi lagi.apne blog par aane ka nimantran bhi de rahi hoon.

वन्दना महतो ! (Bandana Mahto) said...

भावों को बखूबी उकेरा है आपने..... अच्छी लगी आपकी रचना.....

हरकीरत ' हीर' said...

लाजवाब .....
बहुत दिनों बाद कोई अच्छी रचना पढने को मिली .....
पहली बार आई हूँ आपके ब्लॉग पे ...
निश्चित रूप से आप क्षणिकायें भी लिखते होंगे
तो भेजिए न अपनी क्षणिकायें 'सरस्वती - सुमन'पत्रिका
के लिए जो क्षणिका विशेषांक है ....
harkirathaqeer @gmail पर