Tuesday, August 14, 2012

गज़ल जैसी कुछ



आज भी मैंने कई इंसान देखे ।
रूबरू उनके कई तूफ़ान देखे ॥
                                                                                                                         
मुस्कुराते मिन्नते करते जो आए
बन गए मालिक कई मेहमान देखे ॥
                       
बेवफ़ाई के कई दीवान पढकर
इश्क में लुटते कई सुल्तान देखे ॥

शहर में पैगम्बरों का वेश धरकर
ज़िबह करते जो कई शैतान देखे ॥

इस सियाही रात में शमाँ लेकर
जगमगाते जो कई ईमान देखे ॥

'दास' का कहना न मानो, सोचिए खुद
भीड में शामिल कई नादान देखे ॥

2 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

Reena Babbar said...
This comment has been removed by the author.